CM Window reminder

Haryana CM window is wastage of public money and tool of extortion for officials

“जनता की शिकायतों को सीधे मुख्यमंत्री कार्यालय तक पन्हुचाने और उनके निदान के लिए बनायी गयी CM Window आजकल सरकारी अफसरों की “ऊपर की कमायी” का अच्छा जरिया बन गयी है. CM window की डांट लगा कर अधिकारी आरोपियों से पैसे ऐंठ रहे हैं” ये कह्ना है सेव अरावली के पर्यावरण कार्यकर्ता जितेंदर भडाना और कैलाश बिधूड़ी का जो पर्यावरण और जनहित के मामलों पर पिछ्ले साल से लगातार दर्खास्त देते आ रहे हैं, लगातार गवाही देते आ रहे हैं.

शिकायत कर्ता का कह्ना है की सरकारी अफसर उनको तो ये कह्कर धमका देते हैं की तुमको इससे क्या दुःख है और एप्लीकेशन को बिना कुछ कार्यवाही किये ही डिस्पोज ऑफ कर देते हैं. तथा दूसरी तरफ आरोपियों को इसके नाम पर डरा कर उनसे या तो अपने काम निकलवाते हैं या पैसे ठग लेते हैं. कुछ केसों में तो ये भी हुआ है की आरोपियों ने शिकायत कर्ता को मारने तक की धमकी दे दी हैं. जबकी उन्होंने शिकायत में साफ़ साफ़ लिखा था की मेरा नाम आरोपियों को ना बताया जाए, मुझे उनसे ख़तरा है.

शिकायत कर्ता का कह्ना है की  हमने कोशिश की है की सरकार की नीतियों और कानून को बनाये रखने में सरकार की मदद की जाए लेकिन अधिकारियों की आदतों के चलते ये सुविधा जनता के पैसों की और समय की सीधे सीधे बर्बादी और गलत प्रयोग है. ऐसा करके सरकार जनता को ज्यादा दिन मूर्ख नहीं बना सकती.

इसके बारे में शिकायत कर्ता ने अपनी सारी शिकायतों का रिमाइंडर लैटर सोमवार को दिया है जिसमे उन्होंने सरकार से अन्तिम निवेदन किया है की या तो इन समस्याओं पर कार्यवाही की जाए या इस चक्कर में बर्बाद हुए दिनों का मुआवजा दिया जाए. अगर इस एप्लीकेशन पर भी कार्यवाही नहीं की गयी तो शिकायत कर्ता सरकार को कोर्ट में घसीटेंगे.

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *